वजन घटाने के लिए प्रसिद्ध 7-दिवसीय जीएम डाइट प्लान

वजन घटाने के लिए प्रसिद्ध 7-दिवसीय जीएम डाइट प्लान

मूलतः, जीएम डाइट प्लान को जनरल मोटर्स ने 1985 में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन और यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर की मदद से अपने कर्मचारियों के लिए विकसित किया था। इसका मूल उद्देश्य अपने कर्मचारियों को स्वस्थ बनाने और अपनी कंपनी की कार्यबल उत्पादकता में सुधार करने का था।

प्रारंभिक परिणाम बहुत प्रभावशाली थे और इस डाइट प्लान का पालन करके श्रमिकों ने केवल एक सप्ताह में दर्शनीय वजन घटाया जिससे उनकी दक्षता, ऊर्जा और आत्मविश्वास में सुधार हुआ।

यह सत्य है की वजन घटाने के लिए जीएम डाइट को सफल माना गया था और साथ ही इसे पालन करना आसान माना जाता है। परन्तु,  अधिकांश पोषण विशेषज्ञ इसका पालन करने की अनुशंसा नहीं करते हैं। यद्यपि यह तत्काल वजन घटाने में सक्षम है, लेकिन इसके कई दुष्प्रभाव भी हैं, जिनके बारे में हम इस लेख में चर्चा करेंगे।

हेल्थीफायमी में, हमारा यह मानना ​​है कि जो भी वज़न काम करना चाहते हैं, उन्हें संतुलित आहार का पालन करने का लक्ष्य रखना चाहिए। एक संतुलित आहार वजन घटाने में आपकी सहायता करता है और शरीर को आवश्यक पोषक तत्वों को अवशोषित करने में भी मदद करता है। यदि आप वजन कम करने और स्वयं को स्वस्थ रखने के लिए एक डाइट चार्ट (आहार योजना) की तलाश कर रहे हैं, तो हमारा सुझाव है कि आप वजन घटाने के लिए सर्वश्रेष्ठ भारतीय डाइट प्लान (आहार योजना) पर एक नज़र डालें।

वजन घटाने के लिए 7 दिवसीय जीएम डाइट प्लान

जीएम डाइट प्लान का मुख्य केंद्रबिंदु कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों के साथ-साथ कॉम्प्लेक्स कार्ब्स की खपत सुनिश्चित करना है। पानी की बढ़ी हुई मात्रा की खपत के साथ यह आहार योजना (जीएम् डाइट प्लान) एक सप्ताह के अंतराल में वजन घटाने में सफल परिणाम दे सकती है।

मूल विचार यह है कि किसी के साप्ताहिक आहार को केवल फल, सब्जियां, ब्राउन राइस और चिकन तक सीमित रखा जाए। नीचे दिए गया डाइट प्लान शुरू में जनरल मोटर्स के कर्मचारियों के लिए तैयार की गई योजना पर आधारित है।

पहला दिन 

  • सभी फल (केले को छोड़कर)
  • अनुशंसित फल तरबूज और ख़रबूज़ा हैं
  • पानी: 8 से 12 ग्लास 

दूसरा दिन 

  • बड़े आकार का उबला हुआ आलू
  • अपनी पसंद की पकी (बिना तेल के) या बिना पकी सब्जियाँ
  • पानी: 8 से 12 ग्लास 

तीसरा दिन 

  • सभी फल (केले को छोड़कर)
  • अपनी पसंद की पकी (बिना तेल के) या बिना पकी सब्जियाँ (आलू को छोड़कर)
  • पानी: 8 से 12 ग्लास 

चौथा दिन 

  • केले: 8 से 10
  • दूध: 3 से 4 ग्लास  
  • पानी: 8 से 12 ग्लास 

पांचवा दिन

  • टमाटर: 6 
  • ब्राउन राइस: 1 कप 
  • पानी: 8 से 12 ग्लास 

छटवा दिन 

  • ब्राउन राइस: 1 कप 
  • अपनी पसंद की पकी (बिना तेल के) या बिना पकी सब्जियाँ (आलू को छोड़कर)
  • पानी: 8 से 12 ग्लास 

सातवां दिन 

  • ब्राउन राइस: 1 कप 
  • सब्ज़ियां (कोई भी)
  • फ्रूट ज्यूस (किसी भी फल का)

वजन घटाने के लिए 7 दिवसीय जीएम डाइट प्लान – भारतीय संस्करण

जीएम डाइट प्लान के भारतीय संस्करण और मूल संस्करण में बहुत ज्यादा अंतर नहीं है। लेकिन, चूंकि मूल जीएम डाइट में बीफ के रूप में मांस की खपत की अनुमति है, भारत में इसे शाकाहारी विकल्पों के साथ बदल दिया गया है। ऐसा इसलिए क्यूंकि भारतीय आबादी का एक बड़ा हिस्सा बीफ का सेवन नहीं करता है। 

मांसाहारी भोजन का सेवन करने वाले भारतीय भी पांचवे और छटवें दिन चिकन के रूप में प्रोटीन का सेवन कर सकते हैं, जबकि शाकाहारी मांस की जगह एक कप ब्राउन राइस ले सकते हैं।

जीएम डाइट – भारतीय संस्करण: पहला दिन 

पहले दिन अपने आहार की शुरुआत जितने चाहें उतने फलों का सेवन करके कर सकते हैं। ऐसा इसलिए क्यूंकि जीएम डाइट में खपत की मात्रा और समय का कोई विशेष उल्लेख नहीं है। हालांकि, तरबूज और खरबूजे की अत्यधिक अनुशंसा की जाती है क्योंकि इनमें उच्च मात्रा में फाइबर होता है। साथ ही, आप अपने आहार में सेब, संतरा और पपीता भी शामिल कर सकते हैं।

एक और महत्वपूर्ण हिस्सा है पानी का सेवन। दिन में लगभग 8 से 12 ग्लास पानी पिएं और दिन में कभी भी भूखा रहने से बचें। अगर आपको किसी भी वक़्त भूख लगती है तो आप बेझिझक कुछ फल खाकर अपनी भूख को शांत रख सकते हैं। 

ये फाइबर युक्त और कम वसा (फैट) वाले खाद्य पदार्थ एक व्यक्ति को अधिक समय तक भूखा रहने से बचाते हैं, जिससे व्यक्ति की कैलोरी खपत की मात्रा कम हो जाती है। भरपूर पानी का सेवन शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने और बाकी आहार के लिए तैयार करने का भी काम करेगा।

पहले दिन किसी भी तरह की सब्जियों से पूरी तरह परहेज करें और सिर्फ फलों का सेवन करें। आप केले के अतिरिक्त कोई भी फल खा सकते हैं। पहले दिन थोड़ा आसान महसूस करना चाहिए क्योंकि भोजन की एकरसता अभी शुरू नहीं हुई है। इसलिए, अपनी योजना (प्लान) पर बने रहें, और आने वाले दिनों के लिए सक्रिय और ऊर्जावान महसूस करें।

आपकी सहूलियत और सहायता के लिए, नीचे एक सांकेतिक विश्लेषण दिया गया है। 

  • सुबह 8 बजे: सेब फल (1) और कुछ आलूबुखारे या 1 संतरा 
  • सुबह 10:30 बजे: कटा हुआ ख़रबूज़ा (आधा कटोरा)
  • दोपहर 12:30 बजे: कटा हुआ तरबूज़ (एक कटोरा)
  • शाम 4 बजे: संतरा या मौसम्बी (1)
  • शाम 6:30 बजे: खरबूजा और अनार का सलाद (एक कप)
  • रात 8:30 बजे: कटा हुआ तरबूज़ (आधा कप)

जीएम डाइट – भारतीय संस्करण: दूसरा दिन

पहले दिन के विपरीत, जीएम डाइट के दूसरे दिन में सिर्फ सब्जियां खाना होता है। इन सब्जियों को कच्चा खाया जा सकता है या इन्हें स्वादिष्ट बनाने के लिए पकाया जा सकता है। बस यह सुनिश्चित करें कि उनकी तैयारी और उन्हें पकने में किसी भी प्रकार का तेल शामिल न हो।

यदि आप आलू खाना पसंद करते हैं, तो डीप-फ्राइड (तला हुआ), या अपने पसंदीदा ब्रांड के चिप्स के पैकेट जैसे विकल्पों को चुनने से बचें।  हालांकि, आप भूख लगने पर दिन में किसी भी समय सब्जियों का सेवन कर सकते हैं। यदि बहुत अनिवार्य हो, तो स्वाद के लिए जैतून का तेल (ओलिव ऑइल) या मक्खन (बटर) कम से कम मात्रा में इस्तेमाल किया जा सकता है।

सब्जियों में वे सभी पोषक तत्व होते हैं जो शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए आवश्यक होते हैं। जैसे आपको आलू से आवश्यक कार्ब्स मिलते हैं, मटर से प्रोटीन मिलता है, और गाजर और बीन्स फाइबर और सभी आवश्यक विटामिनों से भरे होते हैं। अपेक्षाकृत कम कार्ब वाला खाना खाने के बाद (पहले दिन), यह आपके शरीर में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को बहाल करने में मदद करेगा और आपको अपनी डाइट को जारी रखने के लिए पर्याप्त ऊर्जा प्रदान करेगा। डाइट प्लान के अनुसार, आपको दूसरे दिन फलों से पूरी तरह परहेज़ करना चाहिए।

आपकी सहूलियत और सहायता के लिए, नीचे एक सांकेतिक विश्लेषण दिया गया है। 

  • सुबह 8 बजे: उबले हुए आलू (1 कप) 
  • सुबह 10:30 बजे: खीरा (आधा कटोरा)
  • दोपहर 12:30 बजे: सलाद (1 कप), जिसमें लेटिष (काहू), खीरा, पालक और शिमला मिर्च शामिल हो
  • शाम 4 बजे: कटी हुई गाजर और एक ग्लास नींबू का रस (चुटकी भर नमक के साथ)
  • शाम 6:30 बजे: उबली ब्रॉकोली और हरी मटर (एक कप)
  • रात 8:30 बजे: खीरा (1)

जीएम डाइट – भारतीय संस्करण: तीसरा दिन

डाइट के तीसरे दिन, फलों और सब्जियों, दोनों का सेवन करना चाहिए। हालांकि आपको यह याद रखना है कि ये खाद्य पदार्थ वही हो सकते हैं जो पहले दो दिनों में खाए गए थे। हालांकि, केवल दो ही खाद्य पदार्थों से परहेज़ करना चाहिए, वह हैं आलू और केला।

अब आप इस सप्ताह के मध्य में हैं, और यहां आते आते आपका शरीर नए आहार के साथ तालमेल बिठाना शुरू कर देगा। दूसरे दिन केवल सब्जियां खाने के एक दिन बाद, फल आपके इसके लिए फायदेमंद होंगे क्योंकि फलों और सब्जियों का संयोजन शरीर को उच्च फाइबर और प्रोटीन के लाभ भी प्रदान करता है।

पहले दो दिनों कि तरह ही, शरीर से सभी विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए आपको 8 से 12 ग्लास पानी भी अपनी दिनचर्या शामिल करना होगा। अपने शरीर को फिर से फलों और सब्ज़ियों से आहारयुक्त करने और शरीर को काम करने के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व देने के अलावा, आप तीसरे दिन अपने आहार में जीएम डाइट सूप को भी शामिल कर सकते हैं। यह परिवर्तन आपकी स्वाद कोशिकाओं को संतुष्ट करने और पहले दो दिनों की एकरसता को तोड़ने में भी मदद करेगा।

आपकी सहूलियत और सहायता के लिए, नीचे एक सांकेतिक विश्लेषण दिया गया है। 

  • सुबह 8 बजे: ख़रबूज़ा (आधा कटोरा) 
  • सुबह 10:30 बजे: अनानास (1 कप) या कुछ आलूबुखारे
  • दोपहर 12:30 बजे: सलाद (1 कप), जिसमें लेटिष (काहू), खीरा और शिमला मिर्च शामिल हो
  • शाम 4 बजे: कटी हुई गाजर और एक ग्लास नींबू का रस (चुटकी भर नमक के साथ)
  • शाम 6:30 बजे: उबली ब्रॉकोली और हरी मटर (एक कप)
  • रात 8:30 बजे: खीरा (1)

जीएम डाइट – भारतीय संस्करण: चौथा दिन

पहले तीन दिनों में जिस फल का हमने परहेज़ किया था, यानी केला, उन्हें चौथे दिन खाया जा सकता है। दिन में लगभग 8 केले का सेवन करना चाहिए। खपत को दिन के भोजन और नाश्ते के समय में विभाजित किया जा सकता है। इसके अलावा, नाश्ते, दोपहर के भोजन और रात के खाने में एक-एक ग्लास दूध का सेवन भी करना चाहिए। यदि यह आहार आपके लिए नीरस हो जाता है, तो एक कटोरी सूप को भी आहार में शामिल किया जा सकता है।

केले पेक्टिन से भरपूर होते हैं और इसलिए ये पाचन में मदद करते हैं। वे आपके शरीर को तत्काल ऊर्जा प्रदान करते हैं और यह ऊर्जा आपके शरीर को निरंतर काम करने में सक्षम बनती है। अन्य पोषक तत्वों के साथ, केले में पोटेशियम की अधिक मात्रा होती है और सोडियम (नमक) की मात्रा कम होती है। इसके अतिरिक्त, इस दिन दूध का सेवन किया जाता है जो  पोटेशियम और कैल्शियम का एक बेहतरीन स्रोत होता है। विटामिन डी और कैल्शियम से भरपूर होने के कारण दूध हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।

चौथे दिन, केले के अलावा अन्य फलों से पूरी तरह परहेज़ करना चाहिए। हालांकि आप केले और दूध की जगह अंजीर और सोया दूध का भी सेवन कर सकते हैं। इस दिन, आलू और शकरकंद को भी नजरअंदाज करना चाहिए।

आपकी सहूलियत और सहायता के लिए, नीचे एक सांकेतिक विश्लेषण दिया गया है। 

  • सुबह 8 बजे: केले (2)
  • सुबह 10:30 बजे: केला (1)
  • दोपहर 12:30 बजे: मिल्कशेक (2 केले, 1 ग्लास दूध और 1 चम्मच कोको पाउडर)
  • शाम 4 बजे: केले (2)
  • शाम 6:30 बजे: केला (1) और दूध (1 ग्लास)
  • रात 8:30 बजे: दूध (1 ग्लास)

जीएम डाइट – भारतीय संस्करण: पांचवा दिन

पांचवे दिन शाकाहारी लोग एक कटोरी ब्राउन राइस खाने का विकल्प चुन सकते हैं, जबकि मांसाहारी लोग लीन प्रोटीन स्रोत जैसे मछली या चिकन ब्रेस्ट का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा 6 बड़े टमाटर भी खाने चाहिए।

चूंकि शाकाहारी लोग दिन में ब्राउन राइस खा सकते हैं, उन्हें बस यह ध्यान रखना होगा की उसे बनाने में कम से कम तेल का उपयोग करें। वहीं मांसाहारी लोग 6 टमाटर के साथ लगभग 500 ग्राम पके हुए या हल्का तला हुआ हुए चिकन खा सकते हैं। इसके साथ ही कोशिश करें की आप दिन का 15 ग्लास पानी पियें। ऐसा करने से आप शरीर में बनने वाले यूरिक एसिड के प्रभाव को काम कर सकते हैं। 

ब्राउन राइस फाइबर से भरपूर होता है और पाचन में मदद करता है। वहीं, चिकन और मछली लीन प्रोटीन के बेहतरीन स्रोत हैं। इसके अतिरिक्त, मछली में ओमेगा -3 फैटी एसिड्स होते हैं। साथ ही, टमाटर के उच्च फाइबर से आपको पाचन में सहायता मिलती है।

हालाँकि पांचवे दिन आपको यह ध्यान रल्हन होगा की सब्ज़ियों में आलू और शकरकंद, और फलों में केले से परहेज़ करना महत्वपूर्ण है। आपने ये फल सप्ताह के चौथे दिन खाये हैं। इसके अतिरिक्त, आप सुबह या शाम के नाश्ते में एक कटोरी जीएम डाइट सूप भी ले सकते हैं।

आपकी सहूलियत और सहायता के लिए, नीचे एक सांकेतिक विश्लेषण दिया गया है। 

  • सुबह 8 बजे: टमाटर (3)
  • दोपहर 12:30 बजे: ब्राउन राइस (आधा कप) और हल्की फ्राय (सौते) की हुई मिक्स्ड सब्ज़ियां
  • शाम 4 बजे: टमाटर (2)
  • रात 8:30 बजे: ब्राउन राइस (1 कप) और हल्की फ्राय (सौते) की हुई मिक्स्ड सब्ज़ियां (½ कप) और टमाटर (1)

जीएम डाइट – भारतीय संस्करण: छठवां दिन

जीएम डाइट के छठे दिन के लिए व्यक्ति को पकी या बिना पकी सब्जियां खाने की आवश्यकता होती है। जैसा कि पहले सुझाव दिया गया है, शाकाहारी एक कप ब्राउन राइस का विकल्प चुन सकते हैं, जबकि मांसाहारी अपने आहार में मछली या चिकन ब्रेस्ट जैसे लीन प्रोटीन स्रोत को शामिल कर सकते हैं।

छटवा दिन पांचवे दिन की ही तरह एक और अपेक्षाकृत उच्च भोजन सेवन का दिन है। इस दिन भी पकी या बिना पकी सब्जियों के साथ पिछले दिन के समान एक पैटर्न का अनुसरण कर सकते हैं। बस आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सब्जियां उबली हों और तली हुई न हों और सलाद में कोई भारी ड्रेसिंग भी नहीं होनी चाहिए।

मांसाहारी लोग टमाटर और आलू के अलावा सब्जियों के साथ 500 ग्राम तक त्वचा रहित चिकन का सेवन कर सकते हैं। पिछले दिन के भोजन के अलावा, छठे दिन सब्जियों का सेवन भी शरीर के लिए आवश्यक फाइबर प्रदान करता है। आदर्श रूप से, आलू और शकरकंद के साथ सभी फलों से परहेज़ करना चाहिए। 

अब छंटवे दिन वज़न घटने की प्रक्रिया में प्रगति दिखाई देगी। पिछले 6 दिन में इतने कठिन और प्रतिबंधित आहार के बाद परिणाम देखना बहुत प्रोत्साहित करेगा। 

आपकी सहूलियत और सहायता के लिए, नीचे एक सांकेतिक विश्लेषण दिया गया है। 

  • सुबह 8 बजे: गाजर का ज्यूस (1 ग्लास)
  • दोपहर 12:30 बजे: ब्राउन राइस (आधा कप) और हल्की फ्राय (सौते) की हुई मिक्स्ड सब्ज़ियां (आधा कप)
  • शाम 4 बजे: खीरा (1)
  • रात 8:30 बजे: ब्राउन राइस (आधा कप) और हल्की फ्राय (सौते) की हुई मिक्स्ड सब्ज़ियां (आधा कप) और पनीर/चिकन 

जीएम डाइट – भारतीय संस्करण: सातवां दिन

7-दिवसीय डाइट प्लान के अंतिम दिन, आप एक कप ब्राउन राइस, कई प्रकार की सब्जियां और फलों का रस ले सकते हैं। दोपहर के भोजन में एक कटोरी उबली सब्जियों के साथ एक कप ब्राउन राइस खा सकते हैं। जलयोजन के लिए, भोजन या नाश्ते के बाद एक ग्लास चीनी रहित फलों का रस पिएं। यह पोषक तत्वों से भरपूर सब्जियों के पूरक का कम करेगा।

चावल और सब्जियां शरीर को कुशलता से कार्य करने के लिए आवश्यक ऊर्जा प्रदान करेंगे और फलों के रस सिस्टम से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करेंगे।

पिछले 6 दिनों की तरह, सातवें दिन भी कुछ खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए। आलू और शकरकंद जैसी सब्जियों से दूर रहने की सलाह दी जाती है, जबकि केला, चेरी, आम और नाशपाती जैसे फलों से भी परहेज़ करना चाहिए।

आपकी सहूलियत और सहायता के लिए, नीचे एक सांकेतिक विश्लेषण दिया गया है। 

सुबह 8 बजे: सेब फल या संतरे का ज्यूस (1 ग्लास)

दोपहर 12:30 बजे: ब्राउन राइस (आधा कप) और हल्की फ्राय (सौते) की हुई मिक्स्ड सब्ज़ियां (आधा कप)

शाम 4 बजे: तरबूज़ (आधा कप) और कुछ बेरीज (जैसे ब्लैकबेरी या स्ट्रॉबेरी)

शाम 6:30 बजे: जीएम सूप (1 कटोरा)

जीएम सूप बनाने की विधि

जीएम डाइट सूप इस पूरे सप्ताह आपके आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हो सकता है। किसी भी दिन अपेक्षाकृत अधिक मात्रा में इसका सेवन किया जा सकता है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आप भूखे न रहें।

सामग्री:

  • पत्ता गोभी: 1
  • मध्यम आकार के टमाटर: 3
  • बड़े प्याज: 6
  • हरी मिर्च: 2
  • अजवाइन: एक गुच्छा
  • पानी: आधा लीटर

विधि:

  • सबसे पहले प्याज और मिर्च को काट लें। फिर उन्हें एक बर्तन में रखें और उन्हें जैतून के तेल (ओलिव ऑइल) में हल्का भूरा होने तक तलें।
  • फिर टमाटर, अजवाइन, पत्ता गोभी को काट कर पानी के साथ बर्तन में डाल दें।
  • सूप को पकने में लगभग 60 मिनट का समय लगता है। सब्जियों को उबालने के लिए छोड़ देना चाहिए। 
  • इसके बाद, सूप में कुछ नमक और काली मिर्च डालें और एक कटोरी स्वादिष्ट सूप का आनंद लें।

जीएम डाइट प्लान के साइड इफेक्ट

जीएम डाइट पूरी दुनिया में लोकप्रिय है। हालांकि, इसके कई दुष्प्रभाव भी हैं जिन्हें आपको इस डाइट का पालन करने से पहले जान लेना चाहिए। 

  • ये सत्य है की जीएम डाइट प्लान आपको काम समय में वज़न काम करने में मदद कर सकता है । इसमें सम्मिलित आहार आपको भरपूर फाइबर प्रदान करते हैं, लेकिन ये प्रोटीन, कार्ब्स और फैट (वसा) की उचित मात्रा प्रदान करने में असमर्थ हैं। इस वजह से आपके शरीर को जरूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं।
  • जीएम डाइट आपके शरीर में मेटाबॉलिक स्लोडाउन का कारण बन सकती है। हालांकि ये संभव है कि शुरुआत में आपका वजन कम करने की प्रक्रिया प्रभावित न हो, लेकिन अंततः इससे आपके शरीर को एक स्वस्थ वज़न निरंतरता से बनाए रखना मुश्किल हो जाएगा।
  • चूंकि आप ठोस आहार काफी काम ले रहे हैं तो शरीर चयापचय (मेटाबोलिज्म) के लिए सभी तरल पदार्थों का उपयोग करेगा। इसलिए, आहार आपको निर्जलित (डीहाइड्रेटेड) महसूस करवा सकता है।
  • संभावित दुष्प्रभावों में कमजोरी, सिरदर्द और भूख लगना भी शामिल है।

विशेषज्ञों द्वारा की गई समीक्षा

जीएम डाइट एक क्रैश डाइट है जो संतुलित आहार के सिद्धांतों के खिलाफ जाती है। हालांकि वजन घटाने के परिणाम बहुत जल्दी और स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं, लेकिन दीर्घकालिक प्रभाव अधिक हानिकारक हैं।

चूंकि आप अपने नियमित आहार की दिनचर्या में भारी बदलाव करते हैं, शरीर का वजन कम होता है, पर जब आप अपना सामान्य आहार फिर से शुरू करते हैं, तो वजन कम होने की तुलना में अत्यधिक गति से बढ़ता है।

ऐसा माना जाता है कि कोई भी आहार प्रणाली जिसमें आपको अपना दिन-प्रतिदिन का और नियमित मुख्य भोजन खाना बंद करना पड़ता है, वह टिकाऊ नहीं होती। वजन प्रबंधन के लिए लगातार अच्छा खाने की आदत और सभी पोषक तत्वों के साथ संतुलित आहार की आवश्यकता होती है।

विशषज्ञों का मानना है ऐसी किसी भी अवास्तविक आहार प्रणाली का पालन करने से बचें, जिसमें आपकी जीवनशैली को पूरी तरह से बदलने के लिए अतिरिक्त प्रयास की आवश्यकता होती है। इसके साथ ही अपने दैनिक भोजन को संतुलित करने के लिए समान प्रयास करें। यह एक अच्छी जीवनशैली में बदलाव को बनाए रखने और स्थायी वजन प्रबंधन सुनिश्चित करने में मदद करेगा।

सारांश

जटिल (कॉम्प्लेक्स) कार्ब्स और कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों की खपत पर ध्यान केंद्रित करके, जीएम डाइट प्लान वजन घटाने में सक्षम है। हालांकि, जीएम डाइट का पालन करने से आप आवश्यक पोषक तत्वों से वंचित रह सकते हैं। इसके अलावा, इस डाइट प्लान की समयावधि ख़त्म होने के बाद आप के लिए शरीर का वही घटा हुआ वजन निरंतर बनाए रखना मुश्किल हो सकता है।

More content from Weight Loss

– 20 Proven Weight Loss Tips for Healthy Lifestyle

– Can Glucose Data Aid Behaviour Change and Weight Loss?

– How Can Glucose Tracking Complement Our Weight Loss?

– 7 Best Weight Loss Meal Plans for Men

– Weight Loss Tips with Foods for Thyroid

– Spices to Boost Your Weight Loss Journey

– Ways to Decide on A Diabetes Meal Plan for Weight Loss

Download Healthifyme APP